मध्यप्रदेश में डी.एल.एड परीक्षा का परीक्षार्थी कर रहे जमकर विरोध पढ़िए पूरी खबर


परीक्षार्थी लिख रहे सीएम को पत्र

www.newsjobmp.con--मध्यप्रदेश शासन, उच्च शिक्षा विभाग  द्वारा कोरोना संक्रमण (कोविड-19) को देखते हुए ग्रेजुएशन और पोस्ट-ग्रेजुएशन के छात्र-छात्राओं के हित में पत्र जारी किया गया था। जिसके अनुसार 2019-20 में होने वाली परीक्षाओं का परिणाम आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर जारी करने के निर्देश दिये गये है।एवं अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को ओपन प्रणाली के द्वारा घर से ही परीक्षा देने की सुविधा रहेगी

लेकिन माध्यमिक शिक्षा मण्डल भोपाल म.प्र द्वारा संचालित डी.एल.एड. प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं दिनांक 01,सितम्बर,2020 से आयोजित कि जा रही है।

क्या इन छात्रों को कोरोेना संक्रमण (कोविड-19) से कोई खतरा नही है? जबकि प्रदेश के लगभग सभी जिलों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढती ही जा रही है।

साथ ही कई छात्र-छात्राऐ म.प्र. के अलग-अलग शहरों एवं अन्य राज्यों से भी है। सबसे पहले परीक्षा केंद्रों तक पहुंचने के लिए यातायात व्यवस्था का प्रबंध करना सबसे बड़ी चुनौती है,

कई विद्यार्थी जो लॉकडाउन के समय अपने घर चले गये है वे इन्दौर, भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर, सागर,जबलपुर सहित अन्य शहरों के होस्टल/किराये के कमरे में रहते थे, लेकिन अब कई सारे होस्टल अभी बन्द है और छात्र-छात्राऐ किराये का कमरा छोड चुके है। उक्त परीक्षा दिनांक 01 सितम्बर से 11 सितम्बर तक होगी। इतने दिनों तक अन्य शहर में ठहरने, खाने जैसी कई समस्याऐ होगी।


डीएलएड के परीक्षार्थियों ने अपनी समस्याएं हमें भेजी हैं जो इस प्रकार हैं

नीरज पटेल -यदि परीक्षा के दौरान इनमें से कोई भी छात्र या उस छात्र से घर का कोई सदस्य कोरोना संक्रमित हो जाता है या उसके साथ कोई दुर्घटना हो जाती है, तो जवाबदारी किसकी होगी?



श्रुति जैन-हम लोग होली की छुट्टी पर घर आए थे उसके बाद लॉकडाउन लग गया पढ़ने की सारी बुक एवं नोट्स जिस हॉस्टल में रहती थी वहीं पर रह गई अब अचानक से सरकार द्वारा परीक्षा का निर्णय लिया गया इतनी जल्दी तैयारी कैसे करें


श्रद्धा दुबे--माननीय मुुख्य मंत्री जी से निवेदन है कि जिस तरह अन्य विद्यार्थियो कि जान की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जिस तरह से open book प्रणाली से परीक्षा ली जा रही है उसी तरह हमारी जान वी हमारे परिवार वालो के लिए कीमती है हमारी सुरक्षा की जिम्मेदारी कोन लेता है यदि हमें कुछ होता है तो क्या कर लेगी सरकार। माननीय मुख्य मंत्री जी आप हम deled 1st , 2nd year के विद्यार्थियों की परीक्षा उनके निवास में रहते हुए ओपन बुक प्रणाली से ही लेने की स्वीकृती दीजिए । हमे उम्मीद है कि आप हमारी विनती अवश्य मान्य करेंगे


पंकज प्रजापति-वर्तमान में कोरोना के केस बढ़ते जा रहे हैं इसलिए परीक्षा या तो ओपन बुक प्रणाली से हो अन्यथा परीक्षा को आगे बढ़ाया जाना चाहिए


ऐसे ही अन्य छात्रों ने हजारों की संख्या में हमें अपनी समस्या से अवगत कराया है सरकार को इस संबंध में कोई उचित निर्णय लेना चाहिए क्योंकि परीक्षा को लेकर परीक्षार्थियों में तनाव की स्थिति बनी हुई है|


नीचे वोटिंग सिस्टम में वोट करके आप सब के अनुसार परीक्षा के संबंध में क्या निर्णय होना चाहिए जिस पक्ष में आप हैं उस ऑप्शन पर क्लिक करें




ऐसी ही अन्य जानकारियां अपने व्हाट्सएप नंबर पर प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें



इस खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करने के लिए नीचे दिए गए व्हाट्सएप ऑप्शन पर क्लिक करें