विद्या :-कविता
विषय:-साहस या हिम्मत

ईश्वर के रूपो को अबतक !
सका न कोई पहचान !!

कैसे आकर के मिले !
इसका नही अनुमान !!

धरती पर संकट बहुत !
है कोरोना की मार !!

रात और दिन लड रहे !
कितना हिम्मत का काम !!

सामने देखे मौत को !
कर रहे दो दो हाथ !!

फिर भी संघर्ष कर रहे !
कितने साहस की बात !!

चूक जरा सी भी हुई !
संक्रमण हो तत्काल !!

लेकिन फिर हर समय !
ना माने वो हार !!

ना खाने का है समय !
सोते नही दिन रात !!

राष्ट्र हित का वचन लिए !
हाजिर है हर हाल !!

मंदिर को छोड़ स्वयं !
रूप बनाया आए !!

मरते को जीवन दे रहे !
है ईश्वर साक्ष्यत !!

दर्द पड़े पर जो हरे !
करे दर्द का नाश !!

वो ही भगवान जगत में !
रूप धरो स्वयं आए !!

कितना संघर्ष कर रहे !
मृत्यु खड़ी चिल्लाए !!

फिर भी हिम्मत न हारे !
है किस माटी के लाल !!


🖊️डॉ लाल सिंह किरार
ग्राम व पोस्ट नया पूरा
तहसील अम्बाह 
जिला मुरैना (म.प्र.)


यदि आप अपनी कोई न्यूज़,लेख,विचार,कहानी, कविता आदि भेजना चाहते हैं तो निचे दिए गए जिमेल पर भेज सकते हैं
मध्यप्रदेश के सभी जिलें शामिल

newsjobmp@gamil.com