आज शाम 7 बजे से ग्वालियर जिले में टोटल लॉकडाउन की घोषणा
ग्वालियर शहर में 14 जुलाई के सायंकाल 7 बजे से एक हफ्ते तक कर्फ्यू की तर्ज पर टोटल लॉकडाउन लागू रहेगा। जिले में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखकर जिला प्रशासन ने इस आशय का निर्णय लिया है। सोमवार के सांयकाल हुई डिस्ट्रिक क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में एक हफ्ते का लॉकडाउन लागू करने पर सहमति बनी थी।

कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि एक हफ्ते के लॉकडाउन के दौरान ग्वालियर शहर में किसी भी प्रकार के सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक समारोह आयोजित नहीं किए जा सकेंगे। कहीं भी भीड़ पाए जाने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम एवं अन्य कानूनी प्रावधानों के तहत सख्त कार्रवाई की जाएगी। लॉक डाउन के दौरान जिले की सभी सीमाएं पूरी तरह सील रहेंगी। सीमा पर बने नाकों पर कड़ी निगरानी रहेगी। जिले के भीतर किसी को भी प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी और न ही किसी को जिले से बाहर जाने दिया जाएगा। केवल आपातकालीन मेडिकल जरूरत होने पर ही जिले से बाहर और भीतर आने-जाने की अनुमति दी जाएगी।

ग्वालियर शहर में सात दिन का संपूर्ण  लॉकडाउन (कर्फ्यू) लगाया जाएगा
क्राईसेस मैनेजमेंट की बैठक में लिया गया निर्णय

कोविड -19 के बडते संक्रमण को देखते हुए ग्वालियर शहर में 7 दिन के लिए संपूर्ण लॉकडाउन (कर्फ्यू) लागू करने का निर्णय लिया गया है। इस दौरान आवश्यक वस्तुएं जिनमें दूध, सब्जी एवं दवाओं की उपलब्धता के लिए कुछ समय के लिए छूट रहेगी। शेष समय संपूर्ण शहर पूर्णत: बंद रहेगा। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को क्राईसेस मैंनेजमेंट की बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में लिए गए निर्णय को राज्य शासन को भेजा गया है। शासन से स्वीकृति प्राप्त होने के पश्चात लॉकडाउन के आदेश पारित किए जाएंगे। 
 कोविड-19 के बडते संक्रमण के कारण ग्वालियर में मरीजों की संख्या बडने के कारण शहर में लॉकडाउन की आवश्यकता को देखते हुए कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में क्राईसेस मैनेजमेंट की बैठक में विस्तार से चर्चा कर महत्वपूर्ण निर्णय लिये गए। बैठक में क्षेत्रीय सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर, जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा भुजवल यादव, पुलिस अधीक्षक श्री नवनीत भसीन, नगरनिगम आयुक्त श्री संदीप माकिन, एडीएम श्री किशोर कान्याल, एडीसनल एसपी श्री पंकज पाण्डे, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री कमल माकीजानी, जिला कॉग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री देवेन्द्र शर्मा, पूर्व विधायक श्री रमेश अग्रवाल, श्री मदन कुशवाह, भाजपा के ग्रामीण अध्यक्ष श्री कौशल शर्मा, चेम्बर ऑफ कॉमर्स के सचिव श्री प्रवीण अग्रवाल, भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष श्री देवेश शर्मा, समाज सेवी श्री भूपेन्द्र जैन के साथ ही विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 
 क्राईसेस मैनजमेंट की बैठक में सर्वसम्म्ति से निर्णय लिया गया कि कोरोना के बढते प्रभाव को देखते हुए शहर में 7 दिन का संपूर्ण लॉकडाउन लागू किया जाए। लॉकडाउन लागू करने से पूर्व शहर वासियों को उसकी सूचना अवश्य दी जाए। लॉकडाउन के दौरान अनावश्यक रूप से लोग ना निकलें इसके लिए शक्ति से पालन भी सुनिश्चित किया जाए। आम नागरिकों के लिए आवश्यक वस्तुओं में दूध , सब्जी की उपलब्धता की व्यवस्था भी की जाए। इसके साथ ही चिन्हित मेडीकल स्टोर भी लोगों को दवा की उपलब्धता के लिए खुले रखे जाएं। 
 बैठक में यह भी तय किया गया कि ऐसे उद्योग जिनमें श्रमिकों को वहीं पर रख कर कार्य कराया जा सकता है उन्हें अनुमति प्रदान की जाए। जिले की सीमा को सील किया जाए और आवश्यकता को देखते हुए शहर में आने व जाने वालों के लिए पास की व्यवस्था की जाए। बैठक में यह भी तय किया गया कि संक्रमण को देखते हुए लोगों में जागरूकता के लिए विशेष प्रयास किए जाए। 
 क्राईसेस मैनेजमेंट की बैठक में क्षेत्रीय सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए शहर में सात दिन का लॉकडाउन पूरी शक्ति के साथ लागू किया जाए। 
..2
..2..
इसके साथ ही कोरोना की सेंपलिंग अधिक से अधिक की जाए। उन्होंने यह भी कहा कि लॉकडाउन लागू करने से दो दिन पहले लोगों को उसकी सूचना अवश्य दी जाए। 
 जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष श्रीमती मनीषा भुजवल यादव ने कहा कि शहरी क्षेत्र के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रभावी उपाय किए जाऐं। पंचायतों के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में भी लोग मास्क पहन कर ही घर से निकलें यह सुनिश्चित किया जाए। 
 भाजपा के जिला अध्यक्ष श्री कमल माकीजानी ने कहा कि लॉकडाउन को लोग अब बहुत ही हल्के में ले रहे हैं। बढते हुए संक्रमण को देखते हुए सात दिन का कर्फ्यू लगाया जाना चाहिए। बैठक में काँग्रेस के जिला अध्यक्ष श्री देवेन्द्र शर्मा ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन अथवा कर्फ्यू लगाने की अपेक्षा लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ व्यवस्थाओं को और बेहतर किया जाना चाहिए। 
 चेंम्बर ऑफ कॉमर्स के सचिव श्री प्रवीण अग्रवाल ने कहा कि लॉकडाउन संक्रमण रोकने का उपाय नहीं है। शहर में शराब की दुकानें खुली रहें और लोग अन्य जिलों से शहर में आते रहें तो संक्रमण रूक नहीं सकता है। लॉकडाउन की अपेक्षा व्यवस्थाओं को और बेहतर करने के साथ साथ हमारे शहर में आयुर्वेद के जो बडे जानकार हैं और वेद्य हैं उनसे सलाह मसविरा किया जाना चाहिए। 
 पूर्व विधायक श्री रमेश अग्रवाल ने बैठक में कहा कि व्यापारियों की स्थिति पहले ही खराब है ऐसे में सात दिन पुन: बाजार बंद करना ठीक नहीं है। बाजार बंद करने की अपेक्षा व्यवस्थाओं को और बेहतर करना चाहिए। पूर्व विधायक श्री मदन कुशवाह ने भी कहा कि संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन जरूरी है। समाजसेवी श्री भूपेन्द्र जैन ने भी लॉकडाउन की आवश्यकता बताते हुए कहा कि लॉकडाउन के दौरान गरीब एवं जरूरतमंदों की आवश्यकताओं को भी देखते हुए प्रबंध किए जाना चाहिए। इसके साथ ही शहर में आने एवं जाने वालों के लिए पास की व्यवस्था भी होनी चाहिए। भाजपा के ग्रामीण अध्यक्षय श्री कौशल शर्मा ने भी संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन को आवश्यक बताया। 
 कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में कहा कि क्राईसेस मैनेजमेंट की बैठक में जो महत्वपूर्ण सुझाव प्राप्त हुए हैं उनके आधार पर प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा जा रहा है। शासन की अनुमति के पश्चात ही विधवत आदेश पारित किए जायेंगे। आदेश पारित करने से पूर्व लोगों को इसकी सूचना दी जाएगी। उसके पश्चात ही लॉकडाउन लागू किया जाएगा। 

 पुलिस अधीक्षक श्री नवनीत भसीन ने कहा कि बढते हुए संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन आवश्यक है। इसके साथ ही हम सब को भी लोगों को जागरूक करने और संक्रमण की रोकथाम के लिए सावधानी बरतने की अपील आमजनों से करना चाहिए। इसके साथ ही शहर में सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक ऐसे कोई कार्यक्रम आयोजित ना किए जाऐं जिनमें बडी संख्या में लोग एकत्रित होते हैं। क्राईसेस मैनेजमेंट के सभी सदस्य भी इस दिशा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करें तथा आमजनों को भी कोरोना से संक्रमण की रोकथाम हेतु सावधानी बरतने की अपील करें।


English translate by Google

Total lockdown will remain in force on the lines of curfew in Gwalior city for a week from 7 pm on July 14.  Keeping in mind the increasing transition of Kovid-19 in the district, the district administration has decided to this effect.  In Monday's meeting of the District Christus Management Group, it was agreed to implement a week-long lockdown.

 Collector Shri Kaushalendra Vikram Singh informed that during the one week lockdown, no social, religious and political ceremonies could be organized in Gwalior city.  Strict action will be taken under the Disaster Management Act and other legal provisions in case of congestion anywhere.  All boundaries of the district will remain completely sealed during lock down.  There will be a strict monitoring of the points along the border.  No one will be allowed inside the district nor will anyone be allowed to leave the district.  Permission to move in and out of the district will be allowed only when there is an emergency medical requirement.


A seven-day full lockdown (curfew) will be imposed in Gwalior city
 Decision taken in the meeting of crisis management

 In view of the huge transition of Kovid-19, it has been decided to implement a full lockdown (curfew) for 7 days in Gwalior city.  During this period, there will be some relaxation for the availability of essential commodities including milk, vegetables and medicines.  The rest of the city will remain completely closed for the rest of the time.  This decision was taken at a meeting of the Crisis Management on Monday under the chairmanship of Collector Shri Kaushalendra Vikram Singh.  The decision taken in the meeting has been sent to the state government.  Lockdown orders will be passed after approval from the government.
  In view of the need for lockdown in the city due to increase in the number of patients in Gwalior due to the huge infection of Kovid-19, important decisions were made after discussing in detail the meeting of the Crisis Management in the hall of the collector's office.  Regional MP Shri Vivek Narayan Shejwalkar, Chairperson of District Panchayat Administrative Committee, Mrs. Manisha Bhujwal Yadav, Superintendent of Police, Mr. Navneet Bhasin, Municipal Corporation Commissioner Mr. Sandeep Makin, ADM Mr. Kishore Kanyal, Edison SP Mr. Pankaj Pandey, BJP District President Mr. Kamal Makijani  , District Congress Committee President Mr. Devendra Sharma, former MLA Mr. Ramesh Agarwal, Mr. Madan Kushwaha, BJP Rural President Mr. Kaushal Sharma, Secretary of Chamber of Commerce Mr. Praveen Agarwal, Former District President of BJP Mr. Devesh Sharma, Social Savvy Mr. Bhupendra  Jain as well as departmental officers were present.
  In the meeting of the Crisis Management, it was unanimously decided to implement a full 7-day lockdown in the city in view of the increasing influence of Corona.  City residents must be informed before implementing lockdown.  During the lockdown, it should also be ensured that the people do not come out unnecessarily.  Arrangements should also be made for the availability of milk, vegetables in essential commodities for common citizens.  Along with this, identified medical stores should also be kept open for availability of medicines to the people.
  It was also decided in the meeting that such industries in which workers can be hired and employed there, should be given permission.  The boundary of the district should be sealed and in view of the need, arrangements should be made for the visitors to and from the city.  It was also decided in the meeting that special efforts should be made for public awareness in view of infection.
  In the meeting of the Crisis Management, Regional MP Mr. Vivek Narayan Shejwalkar said that in view of the transition of Corona, a seven-day lockdown should be implemented with full vigor.
 ..2
 ..2..
 Along with this, the sampling of the corona should be done as much as possible.  He also said that people must be informed two days before the lockdown is implemented.
  Chairperson of the Administrative Committee of the District Panchayat, Smt. Manisha Bhujwal Yadav said that effective measures should be taken to prevent corona infection in urban area as well as rural area.  Through the Panchayats, it should be ensured that people in rural areas wear masks and leave the house.
  BJP District President Mr. Kamal Makijani said that people are now taking the lockdown very lightly.  A seven-day curfew should be imposed in view of the increasing infection.  In the meeting, District President of Congress Shri Devendra Sharma said that in view of the infection of Corona, arrangements should be made better along with making people aware, rather than imposing lockdown or curfew.
  Chamber of Commerce Secretary Mr. Praveen Aggarwal said that lockdown is not a way to prevent infection.  If liquor shops are open in the city and people keep coming to the city from other districts then the infection cannot stop.  Along with making the systems better than the lockdown, we should be consulted with the great knowledge of Ayurveda and Vedya in our city.
  Former MLA Mr. Ramesh Aggarwal said in the meeting that the situation of traders is already bad, in such a situation it is not right to close the market again for seven days.  Arrangements should be better done than closing the market.  Former MLA Mr. Madan Kushwaha also said that lockdown is necessary in view of the transition.  Social worker Shri Bhupendra Jain also stated the need for lockdown and said that during lockdown, arrangements should be made keeping in mind the needs of the poor and needy.  Along with this, there should be a nearby arrangement for those coming and going in the city.  BJP's Rural President Shri Kaushal Sharma also called the lockdown necessary to prevent infection.
  Collector Mr. Kaushalendra Vikram Singh said in the meeting that on the basis of important suggestions received in the meeting of Crisis Management, a proposal is being prepared and sent to the government.  Legislative orders will be passed only after the permission of the government.  People will be informed before passing the order.  Lockdown will be implemented only after that.

  Superintendent of Police Shri Navneet Bhasin said that lockdown is necessary in view of increasing infection.  Along with this, all of us should also appeal to the public to make people aware and take precautions to prevent infection.  Also, no social, religious and political programs should be organized in the city in which a large number of people gather.  All members of Crisis Management should also discharge their important role in this direction and appeal to the general public to take precautions to prevent infection from corona.