बाहरी राज्यों के अभ्यार्थियों की आयु सीमा बढ़ाने पर मध्यप्रदेश सरकार की मुसीबतें बढ़ी

Newsjobmp.com-हाल ही में मध्यप्रदेश मध्य प्रदेश सरकार द्वारा सरकारी नौकरियों में बाहरी राज्यों के अभ्यर्थियों की आयु सीमा बढ़ाए जाने एवं मध्यप्रदेश के मूल निवासियों की आयु सीमा कम करने के कारण मध्यप्रदेश सरकार की मुसीबतें बढ़ती जा रही है,
मध्य प्रदेश के युवाओं द्वारा इस फैसले का जमकर विरोध किया जा रहा है सोशल मीडिया से शुरू हुआ यह विरोध सड़कों पर उतर आया है,मध्यप्रदेश सरकार यदि समय रहते इस संवेदनशील मुद्दे पर विचार-विमर्श नहीं करती तो यह आंदोलन उग्र रूप धारण कर सकता है

मध्य प्रदेश के युवाओं के साथ साथ विपक्ष द्वारा भी इस निर्णय का जमकर विरोध किया जा रहा एवं विपक्ष भी युवाओं के साथ खड़ा नजर आ रहा
नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने टि्वटर के माध्यम से कमलनाथ सरकार को घेरने का कार्य किया गोपाल भार्गव ने कहा

आपने पहले दिन उद्योग के लिए नई छूट नीति का ऐलान करते हुए कहा था कि मध्यप्रदेश में अब ऐसे ही उद्योगों को छूट मिलेगी जो कि 70% रोजगार स्थानीय युवाओं को देंगे,
उद्योग तो लगे नहीं कैबिनेट में सरकारी नौकरी ने प्रदेश के युवाओं का हक मारने का निर्णय भी ले लिया लगता है प्रदेश के युवाओं को आप ढोर चराने और बैंड बजाने के काम ही सौंपेंगे


गौरतलब है कि कांग्रेस सरकार ने विधानसभा चुनाव के समय अपने घोषणापत्र में यह घोषणा की थी कि जिसके माता-पिता मध्यप्रदेश के मूल निवासी होंगे उन्हीं के लिए सरकारी नौकरी दी जाएगी ,युवाओं का आरोप है कि सरकार सत्ता में आते ही अपने वादे से मुकर रही है उल्टा मध्य प्रदेश के अभ्यर्थियों की आयु सीमा घटाकर अन्य राज्यों की आयु सीमा बढ़ाकर मध्यप्रदेश के युवाओं का हक छीनने पर उतारू है

जबलपुर में युवाओं ने वित्त मंत्री को ज्ञापन देकर अपनी मांग रखी

वही इंदौर में भी MPPSC के छात्रों द्वारा शासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई